Personal Loan के लिए Online Apply कैसे करें ? ब्याज दर in Hindi

personal loan kya hai


Personal Loan in Hindi:
आज के इस महंगाई के ज़माने में बहुत ऐसे लोग है जिनका इनकम कम पर जाता है जब कोई बड़ा काम अपने घर में करना पर जाता है
 जिनके पास कोई बड़ी जमा पूंजी नहीं होती है तो वे loan लेने के बारे में सोचते है की चलो किसी बैंक से loan लेकर काम कर लेते है और धीरे धीरे करके loan चूका देंगे ये बात स्वाभाविक भी है क्यों की अगर आपके पास कोई और रास्ता नहीं होता है तो loan ले कर काम कर सकते है

अब बात यहाँ ये आती है की कोई भी व्यक्ति लोन कब और क्यों लेता है।


किसी भी आदमी को loan की जरुरत तब पर जाती है जब घर में कोई मेडिकल इमरजेंसी हो, विवाह करना हो, घर की मरमत कराना हो, कही बाहर घुमने का प्लान हो रहा हो या अपने लिए कोई जमीन खरीदना हो इत्यादि।


आज के इस पोस्ट में हम Personal Loan से जुडी हुई लगभग सभी पॉइंट के बारे में जानकारी लेंगे. सबसे पहले जानते है की:


Personal Loan क्या है ? (What is Personal Loan in Hindi)

Personal Loan क्या होता है: जब कोई व्यक्ति अपने किसी खास काम के लिए बैंक से पैसा उधार लेता है और बाद में उस पैसे को ब्याज सहित किस्तों में बैंक को वापस करता है तो उसे पर्सनल लोन कहा जाता है पर्सनल लोन की सबसे अच्छी बात ये है की इसके लिए आपको अपने किसी खास वस्तु को गिरवी नहीं रखना होता है Personal Loan ले कर आप कोई जमीन खरीद सकते है, अपने बिटिया का शादी कर सकते है, अपने घर को रिनोवेट करा सकते है जैसे अनेको काम आप पर्सनल लोन ले कर कर सकते है।


पर्सनल लोन कितने प्रकार के होते है ? (Types of Personal Loan in Hindi)


वैसे तो पर्सनल लोन बहुत से काम के लिए जाते है, लेकिन जो ज्यादा पोपुलर है वह 10 प्रकार की होती है जैसे:

1.  वेडिंग लोन:

2. ट्रेवल लोन:

3. होम रेनोवेशन लोन:

4. मेडिकल इमरजेंसी लोन:

5. हायर एजुकेशन लोन:

6. डेब्ट कंसोलिडेशन लोन:

7. सेकंड हैण्ड कार लोन:

8. मोबाइल और लैपटॉप लोन:

9. मोटर साइकिल लोन:

10. जवेलरी खरीदने के लिए लोन:


ये भी पढ़ें: KVIC Loan Scheme क्या है?


पर्सनल लोन के फायदे और खूबियाँ:

  • इस लोन के लेने के लिए आपको किसी चीज को गिरवी नहीं रखना पड़ता है
  • इस लोन को आप अपने हिसाब से कही भी इस्तेमाल कर सकते है
  • इस लोन के अनुसार आपको 40 लाख या थोड़ा ज्यादा भी मिल सकता है लेकिन यह बैंक पर निर्भर करेगा
  • इस लोन को चुकाने की अवधि 60 महीने या ज्यादा भी हो सकती है, बैंक के अनुसार
  • इस लोन के लिए बहुत कम डॉक्यूमेंटेशन की जरुरत होती है।


ये भी पढ़ें: अपने रिटायरमेंट तक 100 कड़ोर कैसे कमाए ?


Personal Loan Interest Rate in Hindi


पर्सनल लोन का इंटरेस्ट रेट, लोन देने वाली संस्था और बैंक के ऊपर निर्भर करती है इसकी कोई फिक्स्ड स्कीम नहीं होती है पर्सनल लोन का interest rate लोन लेने वाले व्यक्ति के इनकम, रोजगार, क्रेडिट स्कोर और भुगतान करने के अवधि पर निर्भर करती है।

अगर आप पर्सनल लोन के interest rate के बारे में ज्यादा जानकारी चाहते है तो यहाँ click करें


पर्सनल लोन का Interest Rate क्यों प्रभावित होता है ?

यहाँ निचे दर्शाया गया है की किस कारण से बैंको के पर्सनल लोन का इंटरेस्ट रेट प्रभावित होती है


1. क्रेडिट स्कोर: 

लोन देने समय उस व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर चेक किया जाता है. अगर आपका स्कोर जरुरत से ज्यादा कम होता है तो बैंक या प्राइवेट संस्था (NBFC) अपने हिसाब से ब्याज दर ज्यादा भी लागु कर देता है इसके लिए कम से कम आपका क्रेडिट स्कोर 750 या इससे ज्यादा होना चाहिए इसलिए इसको जितना ज्यादा हो सके बनाये रखने की कोशिस कीजिये।


2. मंथली इनकम:

बैंक का यह मानना है की अगर आपकी मंथली इनकम लोन लेने के हिसाब से ठीक है तो आपको समय पर इसका भुगतान करने में कोई दिकत नहीं होगी इसलिए जिन लोगो का मंथली इनकम लोन के नियम के हिसाब से नहीं होता है तो ब्याज दर ज्यादा लगाती है और अगर इनकम ज्यादा है तो कम ब्याज दर पर ही जल्दी लोन पास हो जाता है।


3. इनकम सोर्स:

कोई भी संस्था आपको लोन देने से पहले ये जानना चाहती है की आपका इनकम सोर्स क्या है आप काम क्या और कहा करते है। अगर आप प्राइवेट जॉब करते है तो सिक्यूरिटी की वजह से आपको लोन मिलने में दिकत होती है वाही अगर आप गवर्नमेंट जॉब में है तो आपको कम ब्याज दर पर जल्दी लोन मिल जाती है अगर आप बिज़नस करते है और आपके बिज़नस का टर्न ओवर ठीक तो पर्सनल लोन लेने में दिकत नहीं होती है।


4. आपका बैंक के साथ संबंध कैसा है:

अगर आपको जिस बैंक से पर्सनल लोन लेना है और उस बैंक का आप पहले से ग्राहक है और पहले किसी लोन का भुगतान सही समय पर किये हुए है तो आपको आसानी से लोन मिल जायगी बैंक अपने पुराने ग्राहक को प्री-एप्रूव्ड लोन का भी ऑफर देती है इससे आपका बैंक के साथ व्यवहार तय होता है।

Personal Loan के लिए Online Apply कैसे करें ?

पर्सनल लोन के लिए क्या योग्यता और शर्ते होने चाहिए, ये जान लीजिये

यह लोन लेने के लिए निचे दिए गय बिभिन्य शर्तो को फॉलो करना होगा

  • आपकी उम्र कम से कम 18 वर्ष और ज्यादा से ज्यादा 60 वर्ष की होनी चाहिए
  • आपका क्रेडिट स्कोर कम से कम 750 या इससे अधिक होनी चाहिए
  • अगर आप नौकरी करते है तो सैलरी कम से कम 15000 रु होनी चाहिए
  • अगर आप बिज़नस करते है तो कम से कम उस एक ही बिज़नस में 2 वर्ष का अनुभव होना चाहिए
  • आप जो बिज़नस करते है वो कुछ इस प्रकार के होने चाहिए जैसे MNC, पब्लिक या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, सरकार से जुडी हुई कोई संस्था या PSU का काम करते हों


नोट: ऊपर बताये गए नियम और शर्ते पर्सनल लोन के लिए समान्य है. वैसे बैंक या लोन देने वाली आर्गेनाइजेशन के अनुसार ये शर्ते बदलती रहती है।


ये भी पढ़ें: APY और NPS में अंतर क्या है ?


पर्सनल लोन के लिए क्या क्या डॉक्यूमेंट लगता है ? 

  • पहचान पत्र: आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राविंग लाइसेंस, पासपोर्ट इत्यादि
  • एड्रेस प्रूफ: आधार कार्ड/ यूटिलिटी बिल (पिछले 3 महीनों से पुराना नहीं)/ पासपोर्ट/ ड्राइविंग लाइसेंस / प्रोपर्टी खरीदने या रेंट का एग्रीमेंट / बैंक अकाउंट स्टेटमेंट इत्यादि
  • इनकम प्रूफ: नौकरीपेशा के लिए: बैंक अकाउंट स्टेटमेंट / सैलरी स्लिप / फॉर्म नंबर-16.
  • अगर आप रोजगार करते तो: पर्सनल लोन स्टेटमेंट या पिछले साल का इनकम टैक्स रिटर्न और बैंक अकाउंट स्टेटमेंट / बैलेंस शीट इत्यादि
  • बिज़नस प्रूफ: GST रजिस्ट्रेशन नंबर और रिटर्न का प्रूफ / MOA और AOA/ शॉप लाइसेंस / सर्टिफिकेट ऑफ़ प्रैक्टिस/ पार्टनरशिप एग्रीमेंट इत्यादि


पर्सनल लोन किस कारण से नामंज़ूर होती है ?

  • अगर आपका क्रेडिट स्कोर 750 से कम होता है तो
  • अगर आपका रिपोर्ट गलत है तो
  • आपने कभी बैंक या NBFC से लोन नहीं लिया है तो
  • अगर आपका क्रेडिट यूटिलाईजेशन रेश्यो 30% से ज्यादा है तो
  • अगर एक साल में 2 से ज्यादा पर्सनल लोन लिया है तो
  • इस प्रकार के रिकॉर्ड से लोन न मिलने की संभावनाये जयादा होती है

ये भी पढ़ें: PMEGP Loan कैसे लें?

Personal Loan की फीस और शुल्क कितनी होती है ?


लोन लेते समय कई प्रकार के फ़ीस और शुल्क भी लगते है जो इंटरेस्ट रेट के अलावा होती है जैसे:

  • प्रोसेसिंग फीस: यह फीस 1% से 3% तक होती है जो प्रशासनिक fee के तौर पर लगती है
  • प्री-पेमेंट और फोर-क्लोज़र फीस: अतरिक्त फीस के साथ साथ यह फीस 0 से 5% के बीच हो सकती है
  • लेट पेमेंट फीस: यह फीस EMI पर आधारित होती है जब तय समय के अन्दर EMI नहीं भरते है
  • चेक बाउंस की फीस: अगर तय समय पर EMI की राशी आपके लोन के कनेक्टेड अकाउंट में कम या नहीं होती है तो चेक बाउंस फीस ली जाती है जो आम तौर पर Rs. 500 + GST होती है


ये भी पढ़ें: GST (जीएसटी) क्या है ? इसके महत्व और फायदे in Hindi


FAQ About: पर्सनल लोन in हिंदी

Q-1: पर्सनल लोन के कम से कम कितना क्रेडिट स्कोर होना चाहिए?

Ans: पर्सनल लोन के लिए कम से कम 750 क्रेडिट स्कोर होना चाहिए, नहीं तो ज्यादा ब्याज दर देना होता है


Q-2: इस लोन के लिए कम से कम कितनी सैलरी होनी चाहिए?

Ans: इस लोन के लिए न्यूनतम 25000 रु की सैलरी होनी चाहिए


Q-3: क्रेडिट स्कोर हिस्ट्री पर्सनल लोन के लिए क्यों फायदेमंद है?

Ans: इससे यह पता चलता है की आपने अपना क्रेडिट स्कोर कैसे मैनेज कर रखा है. यह हिस्ट्री पर्सनल लोन मिलने की संभावना को भी बढ़ाती है और साथ में ब्याज दर कम करने में भी मदद मिलती है

   

Q-4: क्या पेंशन धारक को पर्सनल लोन मिल सकता है?

Ans: बिलकुल मिल सकता है लेकिन आपको पहले ये जानना होगा की जिस बैंक में आपका पेंशन अकाउंट है वो बैंक लोन की सुविधा देता है की नहीं. अगर देता है तो मिल सकता है


Q-5: क्या एक स्टूडेंट को पर्सनल लोन मिल सकता है?

Ans: ज्यादा तर स्टूडेंट को पर्सनल लोन नहीं मिलता है लेकिन फिर भी आप अपना स्थाई इनकम शो करते है और बैंक के शर्तो के साथ आपका मेल होता है तो आप लोन ले सकते है


Q-6: क्या सेल्फ-एम्प्लोयी  पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर सकता है?

Ans: बिलकुल कर सकते है लेकिन अगर आप बैंक के शर्तो के साथ खड़ा उतरते है तो


Q-7: क्या बिना सैलरी स्लीप के पर्सनल लोन मिल सकता है?

Ans: हाँ मिल सकता है लेकिन उसके लिए आपको अपने अकाउंट का स्टेटमेंट, एम्प्लोयी सर्टिफिकेट और form 16 को आय प्रमाण पत्र के तौर पर जमा करना होगा


Q-8: क्या शादी के लिए पर्सनल लोन मिल सकता है?

Ans: हाँ, आप शादी के लिए पर्सनल लोन ले सकते हैं क्योंकि पर्सनल लोन के उपयोग पर कोई सीमा नहीं है। कुछ बैंक तो शादी के लिए विशेष रूप से पर्सनल लोन प्रदान करते हैं।


Q-9: क्या मैं एक ही समय पर दो बैंकों से पर्सनल लोन ले सकता हूँ?

Ans: हाँ, आप एक ही समय पर दो बैंकों से पर्सनल लोन ले सकते हैं। ये बैंक के ऊपर निर्भर करता है


Q-10: प्री-अप्रूव्ड लोन क्या होता हैं?

Ans: प्री-अप्रूव्ड लोन को इंस्टेंट पर्सनल लोन भी कहते है यह उन ग्राहक को दिया जाता है जिनका उस बैंक में अकाउंट हो या उस बैंक या NBFC का क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करते है इस सुविधा से लोन अप्लाई होने के बाद तुरंत ही उनके अकाउंट में पैसा भेज दिया जाता है


Q-11: टॉप-अप लोन किसे कहते है?

Ans: टॉप-अप लोन उसे कहते है जब कोई व्यक्ति पहले से कोई पर्सनल लोन का इस्तेमाल कर रहा होता है और उसको दुबारा लोन की जरुरत होती है तो उसी बैंक से top-up loan अप्लाई करता है तो इस राशी को पहले वाले लोन में जोड़ दिया जाता है


Q-12: पर्सनल लोन बैलेंस ट्रान्सफर क्या होता है?

Ans: अपने पर्सनल लोन की बचे हुए amount को किस दुसरे अकाउंट में ट्रान्सफर कर के उस अकाउंट के लोन का भुगतान करना पर्सनल लोन बैलेंस ट्रान्सफर कहा जाता है।


Q-13: Personal Loan पर GST का कितना लगता है?

Ans: पर्सनल लोन के EMI पर GST नहीं लगता है लेकिन पर्सनल लोन पर लगने वाला service tax 18% तक लगता है


Q-14: क्या पर्सनल लोन पर tax की छुट मिलती है?

Ans: इस लोन पर tax की छुट तभी मिलती है जब आप इस लोन से अपने घर का रेनोवेशन कराते है, क्योकि इनकम tax act 24b की तहत tax की छुट मिलती है जो लोन के ब्याज भुगतान पर लागु होती है।


Q-15: प्री-पेमेंट क्या होता है क्या इसपर कोई अतिरिक्त शुल्क लगता है?

Ans: जब अपना लोन amount दिए गय समय से पहले जमा कर देते है तो इसे प्री-पेमेंट कहा जाता है. कई ऐसे बैंक और NBFC संस्था होते है जो प्री पेमेंट पर 1% से 5% तक शुल्ड लगा देते है।


Q-16: क्या पर्सनल लोन पर कोई टैक्स लागू होता है?

Ans: नहीं, अगर आप पर्सनल लोन लेते हैं तो कोई Tax लागु नहीं होता है।

पोस्ट टैग्स: personal loans online in Hindi, personal loan online apply kaise karen, personal loan in hindi, personal loan kaise le, personal loan kaise milega, personal loan interest rate in Hindi, best personal loans in Hindi, personal loan eligibility kaise check kare, personal loan apply kaise karen.

0 टिप्पणियाँ